Friday, May 6, 2022

आईपीएफ ने पुलिस कर्मियों पर जो हत्याकांड में लिप्त हैं उन पर 302 का मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार करने की मांग उठायी*

चन्दौली /  *योगी जी सरकार का तुरंत न्याय देने की बुलडोजर केवल अल्पसंख्यकों, दलितों, कमजोर तबका पर ही चलता हैं जब उनके सरकार  में कई जगह पुलिस कर्मियों द्वारा हत्या - बलात्कार की घटनाएं होती हैं तो थम जाती हैं! उक्त आरोप आईपीएफ राज्य कार्य समिति सदस्य अजय राय ने लगाया! उन्होंने कहा कि बिसरा जांच विधि विज्ञान प्रयोगशाला में भेज कर जांच की रपट आने तक मृतका निशा यादव के हत्या के आरोपी को  गिरफ्तार न  करना यह कहीं से न्याय संगत नहीं हैं! आरोपी पुलिस कर्मियों पर  आईपीसी की धारा 302 की जगह मुकदमा अपराध संख्या 119/2022 आईपीसी 452 , 323 , 304 लगाकर शुरू से चन्दौली प्रशासन बचाव करना चाहती हैं ताज्जुब तब होती और न्याय की आस भी कम हो जाती हैं तब जबकि सभी विपक्ष की पार्टी एक स्वर में मांग कर रहीं हैं कि घटना की न्यायिक जांच कराया जाए लेकिन तमाम नेताओं का मनराजपुर जानें के बाद भी यह सरकार आरोपी पुलिसकर्मियों की गिरफ्तार कर घटना की न्यायिक जांच के सवालों पर मौन हैं! बिसरा जांच, नार्को टेस्ट की बात कर आरोपी पुलिस कर्मियों को अभी गिरफ्तार न कर रहीं हैं! आरोपी पुलिस कर्मियों के ताकत का अंदाज़ा इसी बातें से भी लगा सकते हैं कि सत्ता के जनप्रतिनिधि भी उनके बचाव का ब्यान देते हैं! आप को मालूम हो कि बिसरे की जांच की रिपोर्ट आने में जांच कर्मियों की अभाव दिखाकर देर होता रहता हैं!नार्को टेस्ट के लिए अगर चन्दौली प्रशासन तैयार हैं तो तत्काल पहल लेना चाहिए लेकिन उसके पहले आरोपी थानाध्यक्ष व पुलिस कर्मियों की गिरफ्तारी तो होना चाहिए!* 
*आईपीएफ  राज्य कार्य समिति सदस्य अजय राय ने कहा कि योगी जी सरकार की पुनः सत्ता में आने पर समाज के हर गरीब तबके पर हर स्तर पर हमला तेज हुई हैं! यह राज कानून राज की जगह पुलिस राज में तब्दील हो गया हैं! उन्होंने चन्दौली प्रशासन से इस घटना की न्यायिक जांच की मांग पुनः दोहराया!*

No comments:

Post a Comment

आईपीएफ ने पुलिस कर्मियों पर जो हत्याकांड में लिप्त हैं उन पर 302 का मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार करने की मांग उठायी*

चन्दौली /  *योगी जी सरकार का तुरंत न्याय देने की बुलडोजर केवल अल्पसंख्यकों, दलितों, कमजोर तबका पर ही चलता हैं जब उनके सरकार  में...