Friday, January 28, 2022

बिजली कर्मियों की जबरदस्ती


[सकलडीहा। आज दिनांक 28 जनवरी को सकलडीहा में एक बिजली कनेक्शन ऑनलाइन किया गया जिसका भुगतान भी ऑनलाइन जमा कर दिया गया सूचना भी दी गई कि बिजली कनेक्शन ले लिया गया है कृपया बिजली कनेक्शन को चालू करा दिया जाए आज दोपहर 12:00 बजे बिजली कर्मचारी भी आया उसने तार जोड़ दिया और जुड़ाई 500 से 600  मांगा जिसको अदा न करने पर दोबारा बिजली काट दिया गया जेई महोदय को फोन किया गया तो उन्होंने व्यस्तता बताई एसएस ओ महोदय से कहा गया तो उन्होंने कार्रवाई करने का भरोसा दिया XCN  साहब को भी सूचित कर दिया गया लेकिन अभी तक उन कर्मचारियों पर कोई कार्रवाई नहीं हुई और ना ही बिजली तार दोबारा जोड़ा गया इन्हीं लोगों की वजह से यह कर्मचारी बेलगाम होते जा रहे हैं और भ्रष्टाचारियों का मन बढ रहा है और जनता को  लगता है पूरा विभाग ही भ्रष्ट है और भुगतना जनता को पड़ता है।और अधिकारियों के सुस्त रवैया से बिजली विभाग जनता से वसूली कारण बन रहा है।

धानापुर चंदौली। थाना धानापुर में कोविड का तीसरा बूस्टर डोज़।

जहां चुनाव को लेकर प्रसासन तैयारियों में लगी हुई है और चुनाव को शांतिपूर्ण तरीके से सम्पन्न कराने की चुनौती है  वही एक चुनौती  कोविड भी है और इसकी तैयारी भी शुरू हो चुकी है। चुनाव और कोविड से लड़ने को प्रशासन बिल्कुल सतर्क है और थाने के अंदर कोविड के दूसरे डोज़ के बाद अब तीसरा डोज़ भी लगने लगा है। धानापुर सामुदायिक केंद्र पी.एच. सी. से सोनम और सोनू से इस कार्य को करने का कार्य भार संभाला और थाने के अंतर्गत जिनको जिस डोज़ की आवश्यकता थी उनलोगों को वो डोज़ दिया गया। थानाप्रभारी श्री सत्येन्द्र विक्रम सिंह ने इनके कार्यों को सराहा।

Thursday, January 27, 2022

बरठी सकलडीहा में 50 वर्ष के बुजुर्ग की बोगा टाली के धक्के से मौत।

बोगा ट्रैक्टर से दबकर 50 वर्षीय लाल बिहारी राम की मौत हो गयी सैयदराजा सकलडीहा मार्ग पर धड़ल्ले से चल रहे बालू लदे आवागमन के कारण यह दुर्घटना घटी ओवरलोड बालू से लदे ये वाहन लगातार सड़कों पर फराटे मार से नजर आते हैं या बुगा डाली 600 गज के होते हैं जो अवैध रूप से भी मानक के अनुरूप नहीं होती यह वह लोड गाड़ियों में इनकी हिंदी होती है लेकिन कुछ बाहुबलियों वह कुछ राजनीतिक लोगों के आय का साधन है जिसमें सभी प्रशासन की मिलीभगत नजर आती है ऐसे ओवरलोड वाहनों के लिए हमारी सड़कें भी काफी नहीं है लेकिन फिर भी जबरन इस पर यह ओवरलोड ट्रक व टालिया जलाई जाती है जिससे आए दिन सड़क क्षतिग्रस्त होती है और आए दिन दुर्घटनाओं को भी दावत मिलता रहता है इसमें इस क्रम में यह दुर्घटना भी उस परिवार के लिए कितना पीड़ादायक है जो मजदूर वर्ग से आता है मौके पर पहुंची पुलिस प्रशासन नील लोगों के आक्रोश को शांत किया वह मौके पर पहुंचकर सकलडीहा उप जिलाधिकारी ने मुआवजा देने की घोषणा की और बोगा गाड़ियां ना चलने देने के लिए पुलिस प्रशासन को निर्देशित किया लेकिन तब तक अवैधानिक तरीके से गाड़ियों का संचालन होगा और सड़कों की जर्जर स्थिति यह कहती है कि हमारे क्षेत्र में सुरक्षित वाहन संचालन का विकास नहीं हुआ है जिसके कारण आए दिन दुर्घटनाएं और लोगों को जान से भी हद होने की नौबत आ जाती है आखिर कब तक इन दुर्घटनाओं का दर्द हमारा क्षेत्र क्षैत्र झेलता रहेगा और किसी मजदूर व किसान की परिवार को विडंबना हूं का सामना करना पड़ता रहेगा। इसका जवाब किसी अधिकारी के पास नहीं है।

Wednesday, January 26, 2022

दुर्घटना में घायल सलमान की इलाज के दौरान हुई मौत*

धानापुर। विगत शुक्रवार को देर शाम हुई ट्रैक्टर और ऑटो के टक्कर में घायल सलमान की बीती रात मौत हो गयी। जिसका इलाज ट्रामा सेंटर में चल रहा था। ज्ञात हो कि अवही धानापुर मुख्य मार्ग पर (सुढिया पर) गांव के पास शुक्रवार की देर शाम लगभग 7 बजे अवही से धनापुर की तरफ आ रही ऑटो को पुआल लेकर जा रही एक ट्रैक्टर ने टक्कर मार दिया। जिससे ऑटो पलट गई, ऑटो में महिला सहित कुल आधा दर्जन लोग सवार थे। जिसमें सलमान 22 साल को सर में गंभीर चोट आई। घायल सलमान को सामुदायिक स्वस्थ्य केंद्र पर ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने स्थिति को गंभीर देख उसे जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया। घायल का इलाज वाराणसी स्थित ट्रामा सेंटर में कई दिनों से चल रहा था लेकिन वह जिंदगी की जंग हार गया और उसकी मौत हो गयी। ज्ञात हो कि उसके पिता का एक वर्ष पूर्व ही अचानक निधन हो गया था परिवार का सबसे बड़ा पुत्र होने के कारण इसकी जिम्मेदारी बढ़ गयी थी। परिवार सलमान पर निर्भर हो रहा था लेकिन गरीब परिवार पर एक और आफत आ गिरी। परिजनों का रो रो कर जहां बुरा हाल है वहीं गांव में शोक का माहौल व्याप्त है।

Tuesday, January 25, 2022


करता हूं हर वक्त तारीफ अपने वतन की कि
मुफलिसी का दौर अब जल्द ही गुजरने वाला है
अब अपना वतन चमन पर चमकता चांद होगा
अब हिंदुस्तान को कौन करेगा गुलाम यह हमेशा आजाद होगा।


मैं अपने गांव शहर व देश को 26जनवरी गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं देता हूं।
श्रीकृष्ण लाल श्रीवास्तव प्राचार्य सकलडीहा इन्टर कालेज।
मैं अपने गांव शहर व देश को 26जनवरी गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं देता हूं।

लोकतांत्रिक महोत्सव गणतंत्र दिवस के मायने गणतंत्र दिवस लोकतांत्रिक व्यवस्था का द्योतक।


प्रवीन रिवाइवल--
आज पूरे भारत में लोकतांत्रिक महोत्सव 26 जनवरी 2022 गणतंत्र का 73 वां महोत्सव मना रहा है लोकतंत्र में संवैधानिक महत्व को दर्शाने वाला यह पर्व सभी भारतीयों के हृदय में 26 जनवरी के आते ही उमंग के साथ उछाल मारने लगता है बच्चे हो या बूढ़े सभी इस सुबह का इंतजार करते हैं की कहीं पर झंडा फहराएंगे और मिष्ठान पाएंगे और इस लोकतंत्र के महापर्व में अपनी सहभागिता देंगे। आज से 73 साल पहले 26 जनवरी 1950 को हमारे गणतंत्र की स्थापना की गई थी यह निश्चित किया गया था कि हमारा भारत सरकार इस गणतंत्र के अनुसार संवैधानिक तरीके से देश को आगे ले जाएगा और इसको बार-बार हम बनाकर याद करते हैं कि हमारा देश गणतंत्र के मानक पर स्थिर है लेकिन कुछ देश विरोधी हुआ कुछ स्वार्थी व्यक्ति इस लोकतंत्र के मायने को अपने कुछ लाभ के लिए अव्यवस्थित करते नजर आ रहे हैं इस पर्व की खुशी में यह एक कचोट का सोच आज हर भारतीय व्यक्ति के मन में है कि आखिर लोकतांत्रिक व्यवस्था में चूक कहां हो रही है क्या हम अपना मत अधिकार देने के बाद भी खो देते हैं और उसके बाद जो भी संगठन सरकार बनाता है वह हम पर शासन करने लगता है या एक राजतंत्र की व्यवस्था है लेकिन इतने बड़े लोकतंत्र में संविधान एक हथियार है जो आम आदमी को लोकतंत्र की श्रेणी में लाकर खड़ा करता है और लोकतांत्रिक व्यवस्था को चलाने पर और लोगों को विवश करता है और हर व्यक्ति के अधिकार मूल अधिकार व स्वतंत्रता की रक्षा करता है इसलिए हर बार यह पर्व हमारे जीवन में एक उर्जा और एक आत्मविश्वास लेकर आता है कि हमारे देश में हमारा संविधान ही हमारा भगवान है और इस संविधान पर एक लोकतांत्रिक व्यवस्था कायम है जिसमें हम अपनी व्यक्तिगत व सार्वजनिक हितों को ध्यान में रखते हुए अपने देश का संचालन कर करा सकते हैं    जय हिंद जय भारत।

स्वच्छता को नजरंदाज करते तहसील प्रशासन व उपजिलाधिकारी सकलडीहा।

फाइल फोटो हिन्दुस्तान न्यूज
सकलडीहा तहसील के पास का नजारा कुछ ऐसा दिखा की सरकार के स्वच्छता अभियान को तार- तार करते लापरवाह लोगों  को छूट देकर अपने गोद मे आश्रय दे रही है यह  तहसील प्रशासन तहसील सकलडीहा के आसपास यह बिखरी गंदगी इस बात का आभास करा रही है कि यहां इस समय जो भी अधिकारी है वहां सफाई पसंद नहीं करते और शायद सरकार की कोई बात नहीं मानना चाहते और सरकार को यह भी आभास कराते हैं कि हम अधिकारी हैं तो कुछ भी अपने मन का करते रहेंगे हम कुछ नहीं करना चाहते है चाहे चारों तरफ गंदगी पनपती रहे इस तरह से कोई भी कार्रवाई ना कर तहसील प्रशासन व उप जिलाधिकारी सकलडीहा इस बात को प्रमाण दे रहे हैं कि वह जनसेवक बहुत ही अच्छे हैं जो जनता को  छूट दिए रहते हैं चाहे वह कोई भी गलती करते रहे और खुद अपने आप को बेहतर साबित कर अधिकारी का वर्चस्व कायम रखते हैं यह कैसे अधिकारी हैं जो अपने क्षेत्र में विकास को पनपने नहीं देते और सफाई तक आसपास नहीं रखते अभी सकलडीहा  की साफ सफाई भगवान भरोसे ही है ।

अरुण पांडे
मै अपने गांव व शहर और देश वासियों को २६जनवरी २०२२ गणतंत्र दिवस के शुभ अवसर पर हार्दिक शुभकामनाएं देता हूं।

प्रजातंत्र का राज और आज की सामाजिक व्यवस्था।

प्रजातंत्र के रूप में आज हमें अपनी आजादी का एक रास्ता जरूर दिख रहा है लेकिन क्या या प्रजातंत्र आज के सत्ता तक लड़ाई में  राजतंत्र का आभास नहीं करा रहा है कौन है वह लोग जो इस प्रजातंत्र में अपना राजतंत्र लागू करना चाहते हैं इस तरह सब पार्टियों का अनुमोदन के बाद उसको अच्छी तरह कैसे चला सकते हैं आज आजादी के बाद से यह बेमानी सी दिख रही है यहां पर किसी महात्मा ने कहा है कि अपना विकास तब समझो जब आम व्यक्ति जो एकदम निचले सरका हो अगर उसके प्रगति में सुधार हो तब तो प्रजातंत्र का कोई अर्थ होता है नहीं तो आज हम जिस प्रजातंत्र को समाज में लागू करना चाहते हैं उसे कुछ लोग अपनी मुख्यधारा से जोड़कर राजतंत्र का शासन लाना चाहते हैं यह नहीं जानते कि यह प्रजातंत्र का राज ही है और पूजा के लिए होता है लेकिन किसी व्यवस्था के कारण प्रजा इस बात का आभास नहीं कर पा रही है कि इस तंत्र में उस का क्या रोल है इस तरह से कुछ बाहुबली और धन बली सत्ता को हत्या करके अपना राज कर रहे हैं ईश्वर हमें आज विचार करना चाहिए और अपने लोगों को इस कदर एकजुट होना चाहिए ताकि इस प्रजातंत्र का कुछ मायने कुछ अर्थ निकलता हो जिसे भी हम चुनें अपने सरकार को चलाने के लिए उस सरकार का काम होना चाहिए कि हमारा व कार्य सुनिश्चित ढंग से सुव्यवस्थित ढंग से करें और 24 * 7 के दिन में कार्यवाही को पूरा करें अगर ऐसा नहीं होता है तो सत्ता में ऐसे बाहुबली ऐसे धन बली लोगों का राजतंत्र जाना उचित है अगर जनता इस बात को ना समझे जनता को समझना चाहिए कि वह प्रजातंत्र का राजतंत्र का निर्माण करें ताकि उसके लिए कोई व्यवस्था है सार्वजनिक रूप से उसके समाज में समाहित हो

Hindustannews

हेमंत जी
मैअपने गांव व शहर और देश वासियों को २६जनवरी २०२२ गणतंत्र दिवस के शुभ अवसर पर हार्दिक शुभकामनाएं देता हूं।

आईपीएफ ने पुलिस कर्मियों पर जो हत्याकांड में लिप्त हैं उन पर 302 का मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार करने की मांग उठायी*

चन्दौली /  *योगी जी सरकार का तुरंत न्याय देने की बुलडोजर केवल अल्पसंख्यकों, दलितों, कमजोर तबका पर ही चलता हैं जब उनके सरकार  में...